सरदार वल्लभ भाई पटेल

भारत दुनिया का सबसे प्राचीन राष्ट्र है। हमारे संविधान में भी लिखा है- भारत दैट इज इंडिया। यहां इंडिया भारत के सामने बहुत छोटी चीज है। भारत जो हिमालय और हिंद महासागर के बीच का एक विशिष्ट क्षेत्र है, जिसका हमारे वेद-पुराणों उल्लेख है, जिसे आज भी हमारे संस्कारों में आर्यावर्ते, जम्बू दीपे, भारत खण्डे की भावना के रूप में आत्मसात किया जाता है, वास्तव में यह हिमालय और हिंद सागर के बीच की एक संपूर्ण संस्कृति का वाहक है। यह सिर्फ कोई भौगोलिक क्षेत्र या धारणा नहीं है। मकान, जमीन, लोग, पर्वत-नदियों से बना हुआ इलाका भी नहीं है, बल्कि वास्तव में यह वह भारत वर्ष है जिसको संजोने के लिए आचार्य चाणक्य, आदि शंकराचार्य, स्वामी विवेकानंद और सरदार पटेल जैसे मनीषियों और चिंतकों को बार-बार जन्म लेना पड़ता है।